डेली करेंट अफेयर्स : 09 अप्रैल 2020

डेली करेंट अफेयर्स :प्रतिदिन के करेंट अफेयर्स से सम्बंधित जानकारी को संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया गया है. इसमें आज कोरोना वायरस और संयुक्त राष्ट्र से संबंधित जानकारी संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया गया है…….. Latest Current Affairs in Hindi for Competitive Examinations ….

भारत में 40 करोड़ मजदूर गरीबी में फंस सकते हैं:

डेली करेंट अफेयर्स

संयुक्त राष्ट्र के श्रम निकाय ने हाल ही में कहा कि कोरोना वायरस संकट के कारण भारत में अनौपचारिक क्षेत्र में काम करने वाले लगभग 40 करोड़ लोग गरीबी में फंस सकते हैं और अनुमान है कि इस साल दुनिया भर में 19.5 करोड़ लोगों की पूर्णकालिक नौकरी छूट सकती है. अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) ने अपनी रिपोर्ट ‘आईएलओ निगरानी- दूसरा संस्करण: कोविड-19 और वैश्विक कामकाज’ में कोरोना वायरस संकट को दूसरे विश्व युद्ध के बाद सबसे भयानक संकट बताया है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया भर में दो अरब लोग अनौपचारिक क्षेत्र में काम करते हैं. इनमें से ज्यादातर उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में हैं और ये विशेष रूप से संकट में हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 संकट से पहले ही अनौपचारिक क्षेत्र के लाखों श्रमिकों प्रभावित हो चुके हैं. आईएलओ ने कहा कि भारत, नाइजीरिया और ब्राजील में लॉकडाउन और अन्य नियंत्रण उपायों से बड़ी संख्या में अनौपचारिक अर्थव्यवस्था के श्रमिक प्रभावित हुए हैं.

विश्व एथलेटिक्स ने ओलंपिक क्वॉलिफिकेशन अवधि दिसंबर 2020 तक स्थगित की:

डेली करेंट अफेयर्स2020:

विश्व एथलेटिक्स ने हाल ही में कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर टोक्यो ओलंपिक क्वॉलिफिकेशन अवधि दिसंबर 2020 तक स्थगित कर दी. विश्व एथलेटिक्स ने एक बयान में कहा कि टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए क्वॉलिफिकेशन छह अप्रैल 2020 से 30 नवंबर 2020 तक स्थगित किया जाता है. इसमें कहा गया कि इस अवधिक के दौरान किसी भी स्पर्धा के नतीजे टोक्यो 2020 के कोटे या विश्व रैंकिंग के लिए मान्य नहीं होंगे.

बयान में कहा गया कि दुनिया भर में हालात सामान्य होने पर क्वॉलिफिकेशन अवधि एक दिसंबर 2020 से 2021 के बीच रहेगी. कुल क्वॉलिफिकेशन अवधिक चार महीने लंबी होगी. जो खिलाड़ी पहले ही क्वॉलिफाई कर चुके हैं, वे ओलंपिक में भाग ले सकेंगे. उनके साथ वे खिलाड़ी भी ओलंपिक खेलेंगे जो बढ़ी हुई अवधि में क्वॉलिफिकेशन प्रतिस्पर्धाओं में भाग लेंगे.

बर्नी सैंडर्स अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की रेस से हटे:

डेली करेंट अफेयर्स:

बर्नी सैंडर्स ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार की रेस के लिए अपना कैंपेन खत्म कर दिया है. 78 वर्षीय सीनेटर ने अपने चुनाव प्रचार स्टाफ से फोन कॉल के दौरान यह ऐलान किया. सैंडर्स की दावेदारी खत्म होते ही डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से जो बिडन के राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने का रास्ता साफ हो गया है. सैंडर्स की छवि सोशलिस्ट नेता की है. अमेरिका में नवंबर के महीने में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं.

डेमोक्रेटिक पार्टी के दो मुख्य उम्मीदवार जो बिडेन और बर्नी सैंडर्स थे. शुरुआत में बिडेन और सैंडर्स के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिल रहा था. अब डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से जो बाइडेन रिपब्लिकन उम्मीदवार और वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को चुनौती देंगे.

केंद्र सरकार पांच लाख तक के लंबित टैक्स रिफंड तुरंत चुकाएगी:

केंद्र सरकार ने हाल ही में करदाताओं और कारोबारियों को तुरंत बड़ी राहत देने का फैसला किया है. आयकर विभाग ने पांच लाख रुपये तक लंबित टैक्स रिफंड की वापसी तुरंत करने का फैसला किया है. इससे करीब 14 लाख करदाताओं को फायदा पहुंचेगा. केंद्र सरकार लंबित 18,000 करोड़ रुपये जीएसटी और सीमा शुल्क वापसी भी जल्द करेगी.

लंबित जीएसटी और सीमा शुल्क वापसी भी करने के फैसले से सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम समेत करीब एक लाख व्यवसायिक इकाइयों को लाभ होने की उम्मीद है. वित्त मंत्रालय ने जीएसटी क्षतिपूर्ति के तहत राज्यों की मदद के लिए करीब 34 हजार करोड़ रुपये जारी करने का फैसला किया है. इनमें से 14,130 करोड़ रुपये हाल ही में जारी कर दिए गए.

 दुनिया के सबसे प्रदूषित 30 शहरों में 21 भारत के; दक्षिण एशियाई देशों की हालत सबसे ज्यादा खराब:

डेली करेंट अफेयर्स ऑनलाइन

दुनियाभर में वायु प्रदूषण के सबसे खराब स्तर वाले शहरों की सालाना लिस्ट में भारत के शहर एक बार फिर टॉप पर हैं। यूपी का गाजियाबाद इस लिस्ट में पहले नम्बर पर है। टॉप-10 में से 6 और टॉप-30 में कुल 21 शहर भी भारत के हैं। वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट-2019 का यह डेटा आईक्यूएआईआर के शोधकर्ताओं ने तैयार किया है। हर साल यह रिपोर्ट तैयार होती है। 2018 की रिपोर्ट में टॉप-30 प्रदूषित शहरों में भारत के 22 शहर शामिल थे।

नई रिपोर्ट के मुताबिक, यूपी के गाजियाबाद का 2019 में औसत पीएम2.5 (μg/m³)- 110.2 था, जो दुनियाभर में सबसे खराब था। इसके बाद अगले तीन स्थानों पर चीन और पाकिस्तान के शहर हैं, लेकिन जैसे-जैसे लिस्ट आगे बढ़ती है, भारत के शहरों की संख्या भी इसमें बढ़ती जाती है। टॉप-50 तक भारत के 26 शहर इस लिस्ट में आ जाते हैं। इस लिस्ट के टॉप-50 में सभी शहर एशियाई देशों के हैं। इन सभी का सालाना औसत पीएम2.5 (μg/m³)- 60 से ज्यादा रहा है।

टॉप-10 सबसे प्रदूषित देशों में सभी देश एशियाई हैं। भारत का स्थान इसमें 5वां है। पिछले साल भारत का स्थान तीसरा था। 2019 में भारत का पीएम2.5 (μg/m³)- 58.08 रहा, जो 2018 से 14.46 पॉइंट कम है। रिपोर्ट में इस सुधार का कारण आर्थिक मंदी को बताया गया है। इस लिस्ट में बांग्लादेश पहले नम्बर पर और पाकिस्तान दूसरे नम्बर पर है। दक्षिण एशियाई देश, दक्षिण-पूर्वी एशियाई देश और पश्चिमी एशियाई देशों की हालत सबसे खराब है। दुनियाभर में इसी हिस्से में वायु प्रदुषण का स्तर सबसे चिंताजनक बताया गया है।

daily current affairs for upsc

Total Views: 1589 ,

4 thoughts on “डेली करेंट अफेयर्स : 09 अप्रैल 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: