daily news analysis :(हिंदी समाचार)

daily news analysis :आज की ताजा खबर  से सम्बंधित जानकारी को संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया गया है हिंदी में

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार के 20 हजार करोड़ के सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर स्टे लगाने से इनकार किया

daily news analysis
daily news analysis

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार के 20 हजार करोड़ रुपए के सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। इस प्रोजेक्ट के तहत संसद के दोनों सदनों के लिए ज्यादा सदस्यों की क्षमता वाली नई इमारतें बनाई जाएंगी। साथ ही केंद्रीय सचिवालय के लिए 10 नई बिल्डिंग बनेंगी। एडवोकेट राजीव सूरी ने प्रोजेक्ट पर स्टे की मांग की थी। चीफ जस्टिस एस ए बोबडे की बेंच ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस मामले की सुनवाई की।

याचिकाकर्ता की दलील थी कि इस प्रोजेक्ट के तहत लैंड यूज में अवैध तरीके से बदलाव किया गया है। जस्टिस बोबडे ने कहा कि ऐसी ही एक याचिका पहले से पेंडिंग है, इसे दोहराने का कोई मतलब नहीं। स्टे लगाने की जरूरत नहीं है क्योंकि, कोरोना के समय कोई कुछ नहीं करने वाला। सरकार की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि संसद की नई इमारत बन रही है तो किसी को आपत्ति क्यों होनी चाहिए?

क्या है सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट? (आज की ताजा खबर)

राष्ट्रपति भवन, मौजूदा संसद भवन, इंडिया गेट और राष्ट्रीय अभिलेखागार की इमारत को वैसा ही रखा जाएगा। सेंट्रल विस्टा के मास्टर प्लान के मुताबिक पुराने गोलाकार संसद भवन के सामने गांधीजी की प्रतिमा के पीछे नया तिकोना संसद भवन बनेगा। यह 13 एकड़ जमीन पर बनेगा। इस जमीन पर अभी पार्क, अस्थायी निर्माण और पार्किंग है। नए संसद भवन में दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा के लिए एक-एक इमारत होगी, लेकिन सेंट्रल हॉल नहीं बनेगा।

  • राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट के बीच नई इमारतें और नया संसद भवन बनाने का प्रोजेक्ट है
  • याचिकाकर्ता ने लैंड यूज में अवैध तरीके से बदलाव किए जाने की दलील दी
  • कोर्ट ने कहा- कोई अर्जेंसी नहीं है, due to corona

सुप्रीम कोर्ट ने ट्विटर से ‘सांप्रदायिक’ हैशटैग हटाने से किया इनकार, याचिकाकर्ता से कही यह बात: (हिंदी समाचार)

नई दिल्ली, सुप्रीम कोर्ट ने संक्षिप्त सुनवाई के बाद उस जनहित याचिका को स्वीकार करने से इन्कार कर दिया है जिसमें केंद्र सरकार और तेलंगाना पुलिस प्रमुख को सोशल नेटवर्किग साइट ट्विटर से ‘सांप्रदायिकता’ फैलाने वाले हैशटैग को रोकने का निर्देश देने को कहा गया था। याचिका में आरोप लगाया गया है कि कथित सांप्रदायिक हैशटैग से भारत में नोवल कोरोना वायरस को फैलाने के लिए इस्लाम जिम्मेदार है।

मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की खंडपीठ ने गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इस मामले की सुनवाई की। उन्होंने वकील खाजा अजहरुद्दीन की याचिका पर संज्ञान लिया और कहा कि वह इस मामले को तेलंगाना हाईकोर्ट के समक्ष ले जाएं। संक्षिप्त सुनवाई के दौरान खंडपीठ ने कहा कि कोर्ट किसी व्यक्ति को फोन या सोशल मीडिया पर कुछ गलत कहने से नहीं रोक सकता है। इस पर याचिकाकर्ता वकील ने दलील दी कि वह किसी को कुछ कहने से नहीं रोकना चाहते, लेकिन वह चाहते हैं कि ट्विटर खुद ही इन भड़काऊ हैशटैग को अपने प्लेटफार्म से हटा दे।

हैशटैग हटाने से किया इनकार

हैदराबाद के एक वकील ने अपनी जनहित याचिका के जरिये ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे हैशटैग ‘इस्लामिक कोरोना वायरस जिहाद’, ‘कोरोना जिहाद’, ‘निजामुद्दीन ईडियट्स’, ‘तब्लीगी जमात वायरस’ आदि को अवैध घोषित करके ट्विटर से हटवाने की मांग की थी। इसके लिए सर्वोच्च अदालत को कैबिनेट सचिव, गृह मंत्रालय, तेलंगाना पुलिस के डीजी और पुलिस कमिश्नर को दिशा-निर्देश देने की अपील की थी।

उल्‍लेखनीय है कि पिछले साल अक्‍टूबर में केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के समक्ष सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर गंभीर चिंता जता चुकी है। सरकार ने तब शीर्ष अदालत को बताया कि इंटरनेट लोकतांत्रिक राजनीति में अकल्पनीय व्यवधान पैदा करने वाले शक्तिशाली हथियार के रूप में उभरा है। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने शीर्ष अदालत से कहा था कि यद्यपि की प्रौद्योगिकी से आर्थिक प्रगति और सामाजिक विकास हुआ है, इसके साथ ही अभद्र भाषा, फर्जी खबरें और राष्ट्र-विरोधी गतिविधियों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। 

पाकिस्तान ने पुंछ में इफ्तार के वक्त भी गोले दागे, घर के बाहर खड़े छात्र की मौत; परिवार रोजा भी नहीं खोल पाया (आज की ताजा खबर)

लाइन ऑफ कंट्रोल के पास पुंछ में गुरुवार को पाकिस्तान ने इफ्तार के वक्त भी गोलाबारी की। घर के बाहर 16 साल का एक लड़का खड़ा था, जिसे मोर्टार का स्प्लिंटर लगा। लड़के की मौके पर ही मौत हो गई। उसके घर में रोजा खोलने की तैयारियां चल रही थीं, लेकिन परिवार रोजा नहीं खोल पाया। रमजान के महीने का आज छठा दिन था। इस पाक महीने में भी पाकिस्तान लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है।

पुंछ के डिप्टी कमिश्नर राहुल यादव ने भास्कर को बताया कि तेन मनकोटे तहसील में मो. राशिद के घर में इफ्तार की तैयारियां चल रही थीं। 12वीं में पढ़ने वाला उनका लड़का गुलफराज घर के बाहर खड़ा हुआ था। इसी दौरान पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी की गई और मोर्टार का स्प्लिंटर गुलफराज की छाती में लग गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

गोलीबारी की वजह से अस्पताल भी नहीं ले जा पाए:

अधिकारी ने बताया कि युवक को पास के अस्पताल भी नहीं ले जाया जा सका, क्योंकि पाकिस्तान की तरफ से लगातार गोलीबारी की जा रही थी। देर शाम तक यह जारी रही। जम्मू में सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि शाम करीब 7 बजे पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी शुरू की गई।

रमजान में भी घुसपैठ की कोशिश (daily news analysis)
गुरुवार को जब पाकिस्तान ने फायरिंग की तो भारतीय सेना ने इसका जवाब दिया। दोनों ओर से लगातार जारी फायरिंग की वजह से लोग शांति से घरों में इबादत भी नहीं कर पाए। जम्मू में सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा कि बुधवार को पाकिस्तान ने पुंछ के शाहपुर और किरनी सेक्टर में शाम करीब सवा पांच बजे फायरिंग की थी। इसके बाद उन्होंने मनकोटे और मंधार सेक्टर में मोर्टार से फायरिंग की।

daily current affairs for upsc

daily news analysis:आज की ताजा खबर

Total Views: 328 ,

One thought on “daily news analysis :(हिंदी समाचार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: